Monday, March 15, 2021

मौत के बाद भी

मौत के बाद भी मुझको बुलाया, आँऊगा।
जो दिल में छुपा कर राज जहां से जाऊँगा....
उस हरिक राज से तब.... परदा हटाऊँगा।

सोचोगे क्यूँ जीवन-भर छुपाया था ये मैनें,
मुझे डर था कहीं तुम राह में ना छोड़ जाओ
जीते जी जुदाई मैं......... ना  सह पाऊँगा।

 मौत के बाद भी मुझको बुलाया, आँऊगा।

जानता हूँ, इक दिन मौत मुझको आयेगी
बिना पूछे,बिना बोले, मुझे ले जायेगी
मगर फिर भी खुशी के गीत मैं गाऊँगा।

मौत के बाद भी मुझको बुलाया, आँऊगा।

16 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज मंगलवार 16 मार्च 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. मौत के बाद तो कौन किससे मिला है जो बताना है जीते जी बताने की हिम्मत चाहिए

    ReplyDelete

  3. ख़ामोशी ने सम्हाले हैं जो अब तक कहर के किस्से, यकीनन आना ही होगा वो तोहफ़े तो लौटाने

    ReplyDelete
  4. I’ve been browsing online more than 3 hours today, yet I never found any interesting article like yours. It’s pretty worth enough for me. In my opinion, if all webmasters and bloggers made good content as you did, the internet will be much more useful than ever before.

    ReplyDelete
  5. मुझे आपका लेख बहुत अच्छा लगा मैं रोज़ आपका ब्लॉग पढ़ना है। आप बहुत अच्छा काम करे हो..

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।