Sunday, May 6, 2007

आंतकवादी की मौत का राज

अपने-अपनें
मजहबों के लिए
एक आम आदमी
कब लड़ता है।

जब कोई
बड़ा नेता या मौलवी
उलटा-पुलटा
भड़काऊं
फतवा गड़ता है ।

आंतकवादियों की औलाद
ऎसे लोग ही पैदा करते हैं।
जिसका खामियाजा
हम सब भरते है।

जब तक
एक आम आदमी
इनके फतवों पर
अविश्वास नही करेगा।
तब तक
आदमी के भीतर का
आंतकवादी नही मरेगा।

4 comments:

  1. बहुत सही, सटीक व सुन्दर कविता लिखी है आपने । ऐसे ही लिखते रहिये ।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  2. स्वागत है कविता के साथ. बढ़िया लिखा गया है. बधाई.

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।