Wednesday, May 30, 2007

बहुत फरेब हैं इस मोहल्ले में

अब लौटे अपने ही भीतर
बहुत फरेब है इस मोहल्ले में।
किस से पूछे किस से समझे
उलट गए हैं सारे रिस्ते
चलना भी भूले हैं अब तो
अपने कोलाहल के भय से।
दिशाहीन भटकन पथिक की
अपनें पर मुखरित होती है।
पर स्वीकार किया कब इसने
कहाँ-कहाँ से खोज रहा है
झूठ को सच करने को खोजी
इस मोहल्ले मे रहने वाला
हवा के महल खड़े कर अक्सर
अपने मे उलझा रहता है
संग ले दूजों को उलझाता
पहुचेगा कैसे मंजिल पर
अपने आप से पूछ रहा है।
क्या कोई उत्तर यह पाएगा
तलवार हवा मे घुमाने से
या किसी और बहाने से।
बहुत फरेब है इस मोहल्ले मे
जनमदाता भी हमी हैं यारों
अब दोष मड़े किस के सिर पर।
अपनी ओर ना पलट के देखा
दूजो तक बस राह बना ली
हरिक जीवन की आपाधापी
रहती है यूही चलती पर।
जागो मन अब तो मत उलझो
उधार लिए जीवन दीपक मे।
अपना दीपक खुद बन जाना।

10 comments:

  1. बढिया रचना है दोस्त... बस

    नसीब में जिसके जो लिखा था,
    वो तेरी महफ़िल में काम आया,
    किसी के हिस्से में प्यास आई,
    किसी के हिस्से में जाम आया.

    इस दुनिया में दोस्ती की कमी न थी... अब किस को क्या मिला ये मुक्कदर की बात है

    ReplyDelete
  2. बढ़िया है। बैनर बड़े अच्छे लगा रखे हैं!

    ReplyDelete
  3. परमजीत बाली जी,

    हमें आपके ईमेल आई डी की आवश्यकता है। यदि सम्भव हो तो आप उसे hindyugm@gmail.com पर भेज दें।
    वैसे मुझे यहाँ यह संदेश नहीं भेजना चाहिए था लेकिन और कोई चारा नहीं ढूँढ पाया।

    ReplyDelete
  4. वाह भाई, बहुत बढ़िया..बधाई.

    ReplyDelete
  5. परमजीत जी
    पहली बार पढा आपको और कहूँगा कि आपने अपना नीयमित पाठक बना लिया।

    बहुत सुन्दर रचना, बधाई।

    *** राजीव रंजन प्रसाद

    ReplyDelete
  6. Please send your email address to me as well, shukla_abhinav at yahoo.com

    ReplyDelete
  7. परमजीत जीं आपकी रचनायें देखकर ऐसा लगता है कि हो दोनों के विचार एक ही धरातल पर विचरते हैं। दीपक भारत दीप

    ReplyDelete
  8. परमजीत जीं आपकी रचनायें देखकर ऐसा लगता है कि हम विचार एक ही धरातल पर विचरते हैं। दीपक भारत दीप
    ise sudhar kar prastut kiya gya hai

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।