Sunday, May 27, 2007

जिस यार की तलाश थी....

जिस यारकी तलाश थी साथी नही मिलें ।

उम्र गुजरी उम्मीदमें वो गुल नही खिले ।



राह पे बैठ इंतजार, अब क्या कीजिए ।

यहाँ छोड़ धूल पैर की, गुम कही गए ।



कहाँ जाइएगां अब, कहाँ ढूंढिए ऐ दिल ।

दफन करके वो मेरे, अरमान चल दिए ।



थर-थराते लबों से, दास्तां-ए-दिल कही ।

सब मुस्करा दिए और हँस के चल दिए।

6 comments:

  1. थर-थराते लबों से, दास्तां-ए-दिल कही ।

    सब मुस्करा दिए और हँस के चल दिए।
    वाह !! क्या बात कही !!

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया भाई-

    थर-थराते लबों से, दास्तां-ए-दिल कही ।

    सही है!!

    ReplyDelete
  3. शायद मैने पहले आप को नहीं बताया

    खुशियां बांट ली और गम तनहा सहे
    हम से दीवाने तो बस यूंही जिया करते हैं

    अब किसी के आगे कभी मत रोना

    ReplyDelete
  4. रो रो के उनकी याद मे, आंसू के टब भरे
    वो आये बेरहम और नहा के चल दिए। :D

    ReplyDelete
  5. बाली जी हमे तो आपकी कविता मे हास्य व्यग नजर नही आया जैसा विकाश जी ने लिखा विकाश जी ने जो वो मौके पर लिखा वो तो कबिल ए तारीफ है, आपने सन्जीदगी से कविता लिखी है लिखते रहे . . .

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।