Tuesday, November 18, 2008

कमजोर आदमी

पुन:आवृति
यह पलकें

सदा भीगी रहती हैं।

कभी धूँए से

कभी आग से,

कभी दर्द से।


अब कब और कैसे सूखेगा पानी?

कब खतम होगी यह कहानी?

"वो" भी इन से मुँह फैर बैठा है।

पता नही इन से क्यों ऐंठा है?

हरिक आदमी अपनी ताकत

इसी पर अजमाता है।

सताए हुए को और सताता है।





आज फिर

एक कहानी याद हो आई?

जो किसी ने थी सुनाई।


अर्जुन ने एक बार

जब वह वन में घूम रहे थे

श्रीकृष्ण के साथ , पूछा था-

"भगवान!आप सताए हुए को क्यों सताते हो?"

"जब कि हमेशा उसे अपना बताते हो।"


कृष्ण बोले-"अभी बताता हूँ.."

"पहले मेरे बैठनें को एक ईट ले आओ।"

अर्जुन तुरन्त चल दिया।


लेकिन बहुत देर बाद ईंट ले कर लौटा।

कृष्ण ने उसे टोका
और पूछा-"इतनी देर क्यों लगा दी?"


"पास में ही तो दो कूँएं थे वही से क्यों नही उखाड़ ली?"

अर्जुन बोला-"प्रभू! वह टूटे नही थे,ईट कैसे निकालता?"

कृष्ण बोले-"मै भी तो इसी तरह सॄष्टी को हूँ संम्भालता।"



टूटे को सभी और तोड़ते हैं।

मजबूत के साथ अपने को जोड़ते हैं।

ऐसे में,

कैसे कमजोर आदमी को

संम्बल ,सहारा मिलेगा।

क्या उस का चहरा भी

कभी खिलेगा?

24 comments:

  1. यह पलकें

    सदा भीगी रहती हैं।

    कभी धूँए से

    कभी आग से,

    कभी दर्द से।

    " kya khun, so emotional words.."

    regards

    ReplyDelete
  2. परमजीत जी
    आपका ब्लॉग और नाम बहुत ही सुंदर लगे।
    कविता में कृष्ण और अर्जुन के संदर्भ से प्रथम भाग में एक प्रश्न का समाधान करने से रोचकता बढ़ गई। कविता की इस प्रकार की शैली अच्छी लगी।
    बधाई!
    महावीर शर्मा

    ReplyDelete
  3. बाप-रे-बाप आपने तो कृष्ण-प्रसंग से इस बात को भाव-विभोर बना दिया...जिसमें डूबा मैं अब तक बैठा हूँ...बधाई.....

    ReplyDelete
  4. कमाल की रचना बाली जी...बहुत अच्छा और प्रेरक प्रसंग सुनाया आपने..साधुवाद...
    नीरज

    ReplyDelete
  5. सोचने के लिये बहुत सामग्री दे दी आपने !!

    सस्नेह -- शास्त्री

    ReplyDelete
  6. अति उत्तम
    कृष्ण -अर्जुन प्रसंग के माध्यम द्वारा कितने सरल तरिके से अत्यन्त गहरी बात कह डाली.
    बधाई स्वीकार करे

    ReplyDelete
  7. क्या बात कही है. विशुद्ध छायावाद. आभार.
    http://mallar.wordpress.com

    ReplyDelete
  8. सताए हुए को और सताता है बिल्कुल सही अभिव्यक्ति है ईंट का द्रष्टान्त माकूल है सही है टूटे मकान के पत्थर ही लोग उठा कर ले जाते है /"सबै सहायक सबल के निबल न कोऊ सहाय/पवन जलावत आग को दीपहि देत बुझाय ""इनको संबल सहारा देने के बड़े बड़े तर्क गढ़ रखे है पिछले जन्म का कर्म .,भाग्य ,और भी न जाने क्या क्या /इनके भाग्य विधाताओं को हम देख ही रहे है ""तुमने क्या काम किया ऐसे अभागों के लिए जिनकी मेहनत से तुम्हे ताज मिला तख्त मिला /इनके सपनों के जनाजों में तो शैल होते ,तुमको शतरंज की चालों से नहीं वक्त मिला /लेकिन कमजोर आदमी इन बड़ों से अच्छा है ""तुमने देखे ही नहीं भूक से लड़ते इन्सां ,सिलसिले मौत के जो बंद नहीं होते है "" {लेकिन } इनके चिथड़े लगे कपड़े ये गवाही देते ,इनके आदर्शों में पैबंद नहीं होते है ""अब और ज़्यादा अगली पोस्ट पर

    ReplyDelete
  9. Bhai balijee
    Apko meree kavita pasand aai ye mera saubhagya.Mane apke blog par khoya hua ghar, kamjor admee padheen. Donon hee kavitaen kathya shilp donon hee drishtiyon drishtiyon se achchee han.Apne sach hee likha ha Aj ke samaj men har vyakti majboot admee ke sath khud ko jodata ha .Aise men kamjor ,gareeb ,sataye hue logon ka kya hoga?
    Achchee rachna ke liye badhai evam shubhkamnaen.
    Hemant Kumar

    ReplyDelete
  10. जागरूक होने की प्रेरणा मिलती है बहुत अच्छी-अच्छी बातें सिखने को मिलती हैं बहुत अच्छा और उपयोगी बातें कहीं हैं आपने अपनी इस अनमोल रचना मे.....
    टूटे को सभी तोड़ते हैं मजबूत के साथ अपने को जोड़ते हैं .....सही बात है
    इस ब्लॉग पर आकर मन को बहुत अच्छा लगा.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है आने के लिए
    आप
    ๑۩۞۩๑वन्दना
    शब्दों की๑۩۞۩๑
    इस पर क्लिक कीजिए
    आभार...अक्षय-मन

    ReplyDelete
  11. कड़वे सच की अदभुत दास्तान

    ReplyDelete
  12. Toote ko sabhi aur todte hai ...majboot ke saath apne ko jodte hai....
    ek vastvikta ha inn panktiyon mein....

    Badhai...

    ReplyDelete
  13. Baliji,
    Apke blog par apkee kavitaen padhee. kafii prabhavit karne valee kavitaen han.Meree shubhkamnayen.
    Vinaya

    ReplyDelete
  14. बाली जी ,

    इस बार तो कमाल कर दिया . बहुत ही अच्छी बात , शब्दों के जरिये से दिल के भीतर समा गई . और कविता में मौजूद कृष्ण और अर्जुन के संदर्भ हमें एक नया thought देती है . . और आपकी रचना एक पुरानी सी बात को इंगित करती है . पर हम सब इस बात से जीवन भर अज्ञान रहतें है ... बहुत अच्छी रचना .. मन को छु गई ....

    बहुत बहुत बधाई

    विजय

    Note : pls visit my blog : www.poemsofvijay.blogspot.com , इस बार कुछ नया लिखा है ,आपके comments की राह देखूंगा .

    ReplyDelete
  15. क्या बात है बंधु जी... बढ़िया रचना... साधुवाद...

    ReplyDelete
  16. यह पलकें

    सदा भीगी रहती हैं।

    कभी धूँए से

    कभी आग से,

    कभी दर्द से।
    कैसे कमजोर आदमी को ,संबल-सहारा मिलेगा ,उसका चेहरा कब खिलेगा .मैं इसकी तारीफ भी नहीं लिख पा रहा हूँ .
    वाकई सर्वश्रेष्ठ.

    ReplyDelete
  17. इतना सुंदर लिखा पड़ कर बहुत अच्छा लगा! बधाई आपको!

    ReplyDelete
  18. maine sochabhi nahi tha ki kaavya ko darshan ka aisa twist denge aap. bahut sunder .aap ki tarah hee der tak padhata hoon ,der se uthta hoon .dhanyavad.likhiye aur bantiye
    aap ka hi
    dr.bhoopendra

    ReplyDelete
  19. ...सुन्दर रचना है, शिक्षाप्रद है।

    ReplyDelete
  20. अच्छी रचना है.

    पूछों दूसरों की आंखों से आंसू,
    महसूस करो उन के दिल का दर्द,
    यही है सच्ची मानवता,
    ईश्वर की पूजा.

    ReplyDelete
  21. मैंने मरने के लिए रिश्वत ली है ,मरने के लिए घूस ली है ????
    ๑۩۞۩๑वन्दना
    शब्दों की๑۩۞۩๑

    आप पढना और ये बात लोगो तक पहुंचानी जरुरी है ,,,,,
    उन सैनिकों के साहस के लिए बलिदान और समर्पण के लिए देश की हमारी रक्षा के लिए जो बिना किसी स्वार्थ से बिना मतलब के हमारे लिए जान तक दे देते हैं
    अक्षय-मन

    ReplyDelete
  22. bahut hi marmik kavita aur yatharth ka parichay pauranik kahani ke dwara batane ke liye sadar dhanyawaad.-dr.jaya

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।