Wednesday, August 27, 2014

जो होना है... वह होता है

कुछ बात नही सोची हमनें
पर शाम को खूब निहारेगें
पागल मन खुद से खेलता है
लम्बी लम्बी तलवारों से।
सजता है तन खुश मन होता
रातों को  तन्हा रोता है
कोई तो देखे, अभिलाषा
अक्सर मन की फिर खोता है।
कहते हैं सपनें कभी-कभी
सच भी हो जाया करते हैं
जीवन तो वैसे नीरस है
पर सतरंगी रंग भरते हैं।
तब चलो कहीं हम भी जाकर
 इक नीड़ बना बैठें अपना
कोई तो द्वारे आएगा
निर्मित कर लें ऐसा सपना।
लेकिन सपनों का बंधन तुम
अन्तरमन से जोड़ों ना तुम
टूटे सपनें दुख देते हैं
उनके पीछे  दोड़ो ना तुम ।
बस! देखना है, देखों भालो
जो होना है... वह होता है ।
अनुकूल हुआ खुश ये मनवा,
विपरीत हुआ क्यों रोता है।
जो भेद प्राकृति का समझा
उसने जीना सब जान लिआ।
सपना क्या सच है जीवन में
झूठा-सच्चा सब मान लिआ।




1 comment:

  1. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक
    सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।