Tuesday, January 22, 2013

गज़ल




बहते हैं आँसू ऐसे कोई झरना बह रहा हो।
ख़ामोश हैं जु़बानें, कोई मुर्दा सह रहा हो।


दिल टूटनें की आवाज कौन सुन सका है,
सपनों का शहर मेरा अब देखो ढह रहा है।

टूटे हुए दिलों में घर किसने कब बसाया,
हमें कदम-कदम पर अपनों ने  सताया।


शिकवा करें क्या, ये दस्तूर जिन्दगी का,

सदीयों से चल रहा है, हमनें नही बनाया।




7 comments:

  1. सच ह कहा है ... अपने जब सताते हैं तो गहरा दुःख होता है ...
    दिल टूट जाता है ...

    ReplyDelete
  2. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (23-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | अवश्य पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
  3. अपनों का दिया दर्द बर्दाश्त नहीं होता है।

    ReplyDelete
  4. आपकी पोस्ट की चर्चा 24- 01- 2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें ।

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।