Thursday, September 2, 2010

जाग रे अब जाग रे...


जाग रे अब जाग रे....
बहुत सो चुका सपनो की दुनिया मे।


हर तरफ अंगार हैं,हर तरफ हैं खाईयाँ।
पथ तेरा काँटों -भरा है,मीलों हैं तन्हाईयां।
कोई चलने संग तेरे अब नही यहाँ आयेगा।
तू अकेला आया था, तू अकेला जाएगा।
किससे करें, शिकवे- शिकायत जब बँधा यही भाग में।
जाग रे अब जाग रे....
बहुत सो चुका सपनो की दुनिया मे।


आना-जाना दुनिया मे, कब हमारे वश रहा ?
कौन ले जाता हमें भावों के सागर में बहा ?
ढूँढते रहते है अपना, दूसरों मे ये जहाँ।
आज तक कोई ना जाना, जाना है हमको कहाँ ?
जी रहे हैं जानते नही क्या बँधा है भाग में।
जाग रे अब जाग रे....
बहुत सो चुका सपनो की दुनिया मे।

36 comments:

  1. स्वप्न यूँ ही देखते रहना न जीवन क्रम बने,
    देखकर साकार करने का समय भी चाहिये।

    ReplyDelete
  2. स्वप्न यूँ ही देखते रहना न जीवन क्रम बने,
    देखकर साकार करने का समय भी चाहिये।

    ReplyDelete
  3. बहुत बेहतरीन!

    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुंदर कविता.... श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये.....

    ReplyDelete
  5. अच्छी कविता।
    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्छा सन्देश देती एक सार्थक कविता.

    ReplyDelete
  7. अच्छा सन्देश देती एक सार्थक कविता.
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  8. अत्मिक जागरण का सार्थक संदेश देती रचना।

    आभार

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रस्तुति. श्री कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी की हार्दिक शुभकामनांए

    ReplyDelete
  10. हर तरफ अंगार हैं,हर तरफ हैं खाईयाँ।
    पथ तेरा काँटों -भरा है,मीलों हैं तन्हाईयां।
    कोई चलने संग तेरे अब नही यहाँ आयेगा।

    prtyek pankti ati sundar

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    जन्माष्टमी पर्व के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनाये...
    आज आपकी एक लाइना चिट्ठी चर्चा समयचक्र पर
    जय श्रीकृष्ण

    ReplyDelete
  12. श्री कृष्ण जन्माष्ठमी की बहुत-बहुत बधाई, ढेरों शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  13. आप की रचना 03 सितम्बर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/09/266.html


    आभार

    अनामिका

    ReplyDelete
  14. जीवन सत्य को सहज ही कविता में चित्रण किया है आपने. बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  15. Bahut sundar aur sandeshaparak kavita---.hardika shubhakamnayen.

    ReplyDelete
  16. जाग रे अब जाग रे....
    बहुत सो चुका सपनो की दुनिया मे।
    बहुत ही अच्छा सन्देश सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  17. अच्छा सन्देश देती बेहतरीन कविता। सुन्दर प्रस्तुति......

    ReplyDelete
  18. एक नया जोश एक नया वक़्त एक नया सवेरा लाना है
    कुछ नए लोग जो साथ रहे कुछ यार पुराने छूट गए
    अब नया दौर है नए मोड़ है नई खलिश है मंजिल की
    जाने इस जीवन दरिया के अब कितने साहिल फिसल गए

    अत्यंत खूबसूरत प्रस्तुति
    www.the-royal-salute.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सार्थक कविता.

    आभार

    ReplyDelete
  20. बधाई! दर्पण में देख कर सभी ने यही देखा मेरे बाल, मेरी आँखें, मेरा चेहरा, मैं एसा, मैं अच्छा, मैं बुरा, देख कर मैं को ही देखा कभी यह नहीं पूछा कि भाई तुम कौन हो ? किस प्रयोजन से पृथ्वी पर आना हुआ ? तुम क्या करते हो?

    ReplyDelete
  21. बहुत देर बाद आयी लेकिन देर आये दुरुस्त आये। कम से कम ये लाजवाब रचना तो पढी। बहुत बहुत बधाई। इतनी देर से क्यों पोस्ट डालते है? जल्दी लिखा करें। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  22. सन्देश देने में सक्षम!
    आशीष

    ReplyDelete
  23. बस जागना ही तो है, समस्‍या तो यह है कि जागते को जगाना है और ऐसे जागते हुए को जगाना है जो भ्रमग्रस्‍त है।

    ReplyDelete
  24. अत्यंत खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. बेहतरीन। बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    मध्यकालीन भारत-धार्मिक सहनशीलता का काल (भाग-२), राजभाषा हिन्दी पर मनोज कुमार की प्रस्तुति, पधारें

    ReplyDelete
  26. सच लिखा है ... इंसान को हक़ीकत की दुनिया में रहना चाहिए ...

    ReplyDelete
  27. बहुत ही दार्शनिक भाव लिये है यह आपकी कविता ।

    ReplyDelete
  28. vaah bhaayi.....aapne to sachmuch jagaa hi diyaa....

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।