Saturday, February 5, 2011

एक दिशाविहीन सफर............


फूल बिखरे
मन भी बिखरा
भाव बिखरे सब यहाँ।
कौन जाने किस दिशा में
जायेगा ये कारवाँ।

चल रहे हैं सब मगर
लेकिन पता नही पास है।
पहँच जायेगें कभी
हर एक मन में आस है।

है आस का ही आसरा
तोड़े नही उम्मीद को।
जिसने जगाई आस ये
छोड़े कभी ना साथ वो।

उसके बिना नही सोच सकते
जायेगें हम 
फिर कहाँ।
जानता कोई नही
क्युँ आया है 
वो यहाँ।


एक दिन यही सोचते 
खो जायेगा
अपना जहाँ।

फूल बिखरे
मन भी बिखरा
भाव बिखरे सब यहाँ।
कौन जाने किस दिशा में
जायेगा ये कारवाँ।

25 comments:

  1. राह देगी यह धरा, दिशा देगा आसमां।
    गगन पंछी उड़ चलेंगे, बढ़ चलेगा कारवां।

    ReplyDelete
  2. बढ़िया , ये मन ही भ्रम में डालता है , एक दिन बैठ कर सोचता भी जरुर है , और सच बात ये है कि दिशा बदलते ही दशा बदल जाती है ..

    ReplyDelete
  3. फूल बिखरे
    मन भी बिखरा
    भाव बिखरे सब यहाँ।
    कौन जाने किस दिशा में
    जायेगा ये कारवाँ।

    सच कहा हर मन की व्यथा को चित्रित कर दिया…………मगर दिशाविहीन सफ़र नही है ये एक दिन मंज़िल जरूर मिलेगी।

    ReplyDelete
  4. वाह ...बहुत ही खूबसूरत शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  5. man ke dard ko bahut khubsurati se aapne chitrit kiya hai...badhai:)

    ReplyDelete
  6. राह देगी यह धरा, दिशा देगा आसमां।
    गगन पंछी उड़ चलेंगे, बढ़ चलेगा कारवां।
    खूबसूरत शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  7. कौन जाने किस दिशा में जाएगा ये कारवाँ ! बहुत अच्छी रचना !!

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन .... सच में कभी कभी लगता है जीवन का सफ़र दिशाविहीन .....

    ReplyDelete
  9. मन की कशमकश को खूब भावों मे उडेला है। लेकिन चलते जाना ही ज़िन्दगी है। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  10. अध्यात्मिक पुट लिए हुए आप की कविता ज़िन्दगी का सच तलाश रही है.
    आप की कलम को सलाम

    ReplyDelete
  11. अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  12. चल रहे हैं सब मगर
    लेकिन पता नही पास है।
    पहँच जायेगें कभी
    हर एक मन में आस है

    बहुत सुंदर पंकितयां है, या यूँ कहें की यथार्थ ही तो है.

    ReplyDelete
  13. आदरणीय परमजीत सिंह बाली जी
    नमस्कार !

    कौन जाने किस दिशा में
    जायेगा ये कारवाँ… बहुत सुंदर रचना है बधाई !


    बसंत पंचमी की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति। धन्यवाद|

    ReplyDelete
  15. कौन जाने किस दिशा में जा रहा है कारवां !
    मन को छू लिया बाली साहब !
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  16. प्रवीण पांडेय जी ने सही कहा। बस साहस नही छोडना चाहिये कारवाँ रास्ता ढूँढ ही लेता है। अच्छी लगी रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  17. Yes! 1 din to sabhi ko jaana hi hai..aur ye mazedaar bhi hai, kyonki ye 1 sure cheej hai..saaray dukhon se mukti mil jaani hai..

    ReplyDelete
  18. फूल बिखरे
    मन भी बिखरा
    भाव बिखरे सब यहाँ।
    कौन जाने किस दिशा में
    जायेगा ये कारवाँ।

    bhavpurn abhivyakti k lye badhai ...

    ReplyDelete
  19. चलते ही रहें मंजिल तो एक दिन मिलनी ही है कुछ देर से ही सही बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  20. Shriman Ji,
    Aapka Lekhan Bahut Hi Sundar Laga, itna sundar laga ki hum khud ko rok nahi paye...
    Tippani Kar di..

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।