Monday, January 12, 2009

बचपन की यादें

झिम-झिम-झिम-झिम बरसे मेघा झिम-झिम बरसे अँखियां।
रात अंधेरी संग ना साथी, खो गई सारी सखियां।
आता है फिर याद हमें वही गुजरा हुआ जमाना।
लगातार बतियाते रहना, आँखों से शर्माना।
भूल ना पाए अब तक हम बचपन की वो यादें।
झूठ-मूठ के राजा-रानी, झूठ-मूठ के वादें।
बेमतलब दुश्मन से लड़ना,लड़-लड़ कर मर जाना।
झूठ-मूठ तेरा रोना,हँस कर, मेरा उठ जाना।
पता नही अब कब लौटेगी बचपन की वो सखियां।
झिम-झिम-झिम-झिम बरसे मेघा झिम-झिम बरसे अँखियां।


12 comments:

  1. बहुत सहज और सुन्दर कविता है

    ---मेरा पृष्ठ
    गुलाबी कोंपलें

    ReplyDelete
  2. bachpan ke din......in mohak yaadon ko hum kitne jatan se rakhte hain....aapne bata diya,bahut achha laga

    ReplyDelete
  3. बढ़िया अभिव्यक्ति. आजकल कम दिख रहे हो??

    ReplyDelete
  4. Respected Baliji,
    Bahut sahaj shabdon men apne bachpan kee yadon ko sanjoya hai.Badhai.
    Poonam

    ReplyDelete
  5. Bali ji,
    Bachpan kee yaden to sabheeke pas hotee hain,lekin unhen samhal kar ham kitna rakh pate hain ye hamaree khasiyat hogee.Achchhee kavita ke liye badhai.
    Hemant Kumar

    ReplyDelete
  6. आपका सहयोग चाहूँगा कि मेरे नये ब्लाग के बारे में आपके मित्र भी जाने,

    ब्लागिंग या अंतरजाल तकनीक से सम्बंधित कोई प्रश्न है अवश्य अवगत करायें
    तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

    ReplyDelete
  7. झिम-झिम-झिम-झिम बरसे मेघा झिम-झिम बरसे अँखियाँ
    कितनी सुन्दर और गेयता में अति मधुर रचना रही ये बाली जी, आपका धन्यवाद और आभार इसे पढ़वाने के लिए। बचपन कितना हसीन हुआ करता था "झूठ-मूठ तेरा रोना,हँस कर, मेरा उठ जाना”
    अहा!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर यादें सजोई हैं आपने.......
    मन प्रफुल्लित हो गया.........रचना पढ़कर

    अक्षय-मन

    ReplyDelete
  9. मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएँ
    मेरे तकनीकि ब्लॉग पर आप सादर आमंत्रित हैं

    -----नयी प्रविष्टि
    आपके ब्लॉग का अपना SMS चैनल बनायें
    तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

    ReplyDelete
  10. aadarniy baali ji

    aapki kavita ne to hamen bachpan men pahuncha diya ..

    badhai , itni sundar rachna ke liye

    main bhi kuch naya likha hai ..

    aapka

    vijay

    ReplyDelete
  11. आपने तो भाई मुझे भी कुरेद दिया........इस अभिव्यक्ति के लिए आपको धन्यवाद..........!!

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।