Sunday, March 1, 2009

आज कयामत का कहर बरसा है

बुझी है आग तो फिर पानी बरसा है,
भरी दोपहरी में, मन बहुत तरसा है।

जब तलब थी, कहीं और, जा बैठे,
आँख का सावन, बहुत बरसा है।

हर घड़ी याद किया, खुद को, भूले थे,
लगता है यादो का,हम पर, कर्जा है।

अब ये आना तेरा,खुशी, क्या देगा,
आज कयामत का कहर बरसा है।

22 comments:

  1. हर घड़ी याद किया, ख़ुद को, भूले थे
    लगता है यादों का, हम पर, कर्जा है .......
    सुंदर पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  2. wah baali sahab... aapka naya chehara dekhane ko mila bada hi lubhavan... maja aagaya padhke ...



    arsh

    ReplyDelete
  3. हर घड़ी याद किया, खुद को, भूले थे,
    लगता है यादो का,हम पर, कर्जा है।

    अब ये आना तेरा,खुशी, क्या देगा,
    आज कयामत का कहर बरसा है।
    waah bahut hi badhiya

    ReplyDelete
  4. क्या खूब है, वाह जी वाह

    ReplyDelete
  5. वाह्! अति सुन्दर रचना.......बहुत खूब
    एक बात कहना चाहता हूं कि वैसे तो कविता/गजल इत्यादि के बारे में मेरे जैसे इन्सान को कुछ भी नहीं मालूम्,किन्तु जो मन को अच्छा लगे उसे समझने की एक नाकामयाब सी कौशिश जरूर कर लेते हैं.
    अब ये आना तेरा,खुशी, क्या देगा,
    आज कयामत का कहर बरसा है।
    यहां नीचे की पंक्ति में बरसा की अपेक्षा बरपा शब्द होता तो शायद ज्यादा अच्छा रहता.किन्तु आप इसके बारे में ज्यादा अच्छे तरीके से जानते हैं. मैने तो वैसे ही जो मन में आया,कह दिया.कृ्प्या आप इसे अन्यथा न लें.

    ReplyDelete
  6. jab talab thi kahin aur ja baithe
    aankh ka sawan bahut barsa hai

    in panktiyon ne to talab ka bahut gahre ahsaas kara diya...........bahut kuch bayan kar diya.
    vaise to poori hi nazm bahut badhiya hai magar kahar jab barasta hai to kayamat hi hoti hai..........kya kuch kah diya aaj to aapne.

    ReplyDelete
  7. डी के शर्मा जी,
    बरपा नहीं हो सकता क्योंकि काफिया, रसा है

    परमजीत जी,
    1)आपकी गज़ल में बरसा का बहुत ज़्यादा इस्तेमाल है, इस से आपके शब्दकोष की कमी दिखाई पड़ती है
    2)कर्ज़ा आप काफिये के तौर पर इस्तेमाल नहीं कर सकते, क्योंकि आपका काफिया, रसा होगा, ये मतले में ही तय हो गया है।
    3) काफिया हमेशा, ऐसा चुनें जिस से आप ज़्यादा शेर बना सकें, इससे मिलते जुलते काफिये ढूँढने में मुश्किल आई होगी

    अरसा, बरसा, तरसा, और तो मुझे भी नहीं सूझ रहे।

    ReplyDelete
  8. परमजीत जी
    सुन्दर बोल, सुन्दर प्रस्तुति, हर शेर लाजवाब, खूबसूरत, बागी तेवर में लिपटी रचना

    ReplyDelete
  9. परमजीत जी आप की यह गजल भी हमे तो बहुत अच्छी लगी.
    इस सुंदर गजल के लिये आप का ध्न्यवाद

    ReplyDelete
  10. Gar Man me abhilasha nahi jagti to aap likhate kaise ha? Jut mat bolie.

    Ese ek writer ko and creative writer ko to bot avilashawan hona chahie?

    ReplyDelete
  11. जब ज़रूरत थी तो कही और ....
    आँखों की बारिश........गहरे भावों को जीवंत कर दिया....

    ReplyDelete
  12. बहुत ही भाव विभोर करती है आपकी लेखनी । सुंदर लेखन एक बार फिर से ।

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  14. बहुत उम्दा...बहुत-बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  15. हर घड़ी याद किया, खुद को, भूले थे,
    लगता है यादो का,हम पर, कर्जा है।

    अब ये आना तेरा,खुशी, क्या देगा,
    आज कयामत का कहर बरसा है....

    Balle Balle ...Bali ji, tusi te baija baija kar ditti...!! Vadhaiyan ji vdhaiyan...!!

    ReplyDelete
  16. बाली जी,
    न गजल के बारे में पता है मुझे,न कविता के
    बस जो भी दिल मे आता है ,लिख देती हू "मेरे मन की"---
    आपकी पोस्ट पढने के बाद---
    "बैठ्ने को रत्ती भर जगह भी नहीं,
    घर में मेरे दुखॊं का जलसा है।"

    ReplyDelete
  17. baali ji

    sorry for late arrival , i was on tour.

    aapki ye gazal padhkar maza aa gaya sir,
    aakhri she to ultimate hai sir, this is the best of you ..

    main bhi kuch likha hai , jarur padhiyenga pls : www.poemsofvijay.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. कई बार पढ़ा, बार-बार पढ़ा वाह वाह!

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।