Wednesday, May 20, 2009

मुक्तक माला - १७


जलेगी शंमा जो परवाने भी आएंगें,
आपके लिए साकी हम भी संग गुनगुनाएगें
रात कितनी है बाकि किसी को खबर नही-
सहर होने तलक शायद ही ठहर पाएंगें ।


जिस राह पर चले हम, उसपर वीरांनियाँ हैं,
यहाँ हरिक की, अपनी-अपनी कहानियाँ हैं।
हसरत थी इस दिलको, कोइ रह्बर मिलेगा-
इसी ख्वाइशमें यहाँ गई कितनी जवानियाँ हैं
|

12 comments:

  1. सुन्दर मुक्तक..दोनों ही!!

    ReplyDelete
  2. paramjeet jee, sundar muktak ke liye badhai....

    ReplyDelete
  3. परमजीत जी शुक्रिया इन सुन्दर मुक्तकओ के लिए ...

    ReplyDelete
  4. क्या बात है बाली साहेब दोनों मुक्तक लाजवाब...बेहतरीन....
    नीरज

    ReplyDelete
  5. क्या बात है.........दोनों ही लाजवाब हैं ...........जोरदार रचनाएं

    ReplyDelete
  6. आपने शमा जलाई और देखिये परवाने आ गए.

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    ReplyDelete
  7. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति ... बधाईयाँ ।

    ReplyDelete
  8. aarnya baali saheb

    kya baat kahi hai aapne dono muktakh , bus kaamal ke hai ..

    meri dil se badhai sweekar kariyenga

    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. सहर होने तक ठहर के देखो.
    रहबर मिलेगा तुम्हारे इंतज़ार में.

    ReplyDelete
  10. वाह वाह जनाब छु लिए.
    दिल के एहसासों को..
    अभी तक तो महसूस करते थे लेकिन आज छु लिए.....
    अक्षय-मन

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।