Monday, January 4, 2010

दिल की बातें.........




दिल की बातों का असर अब नही होता।
दुसरो के लिए कोई यहा अब नही रोता।

जिन्हें सदा देख कर , मुस्कराते थे हम,
उनकी तस्वीर है ये, यकी अब नही होता।

खेल है किस्मत का या कहर है उनका,
खुदा भी मेहरबा हम पर, अब नही होता।

अब दिल की बातों को सुनना छोड़ दिया,
परमजीत दिल सबके पास अब नही होता।

19 comments:

  1. सभी शेर इस गजल के अच्छॆ लगे.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. ’सकारात्मक सोच के साथ हिन्दी एवं हिन्दी चिट्ठाकारी के प्रचार एवं प्रसार में योगदान दें.’

    -त्रुटियों की तरफ ध्यान दिलाना जरुरी है किन्तु प्रोत्साहन उससे भी अधिक जरुरी है.

    नोबल पुरुस्कार विजेता एन्टोने फ्रान्स का कहना था कि '९०% सीख प्रोत्साहान देता है.'

    -सादर,
    समीर लाल ’समीर’

    ReplyDelete
  3. बढ़िया बात कही आपने आज कल हर जगह मिलावट है ..खूबसूरत शेर..सच्चाई से रूबरू करते हुए..बधाई!!!

    ReplyDelete
  4. लाजवाब गज़ल है बधाई ।
    जिन्हें देख कर ----- शेर बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  5. अच्छी रचना , नव वर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  6. परमजीत जी
    अच्छी रचना......
    ...... नव वर्ष 2010 की हार्दिक शुभकामनायें.....!
    ईश्वर से कामना है कि यह वर्ष आपके सुख और समृद्धि को और ऊँचाई प्रदान करे.

    ReplyDelete
  7. गहरे भाव लिए हुए इस सदाबहार गजल के लिए बधाई स्वीकार करें!

    ReplyDelete
  8. સહી कहा आपने हरकिसी के पास अब दिल नहीं होता\\

    आज इस पर बात चल रही थी हमारी और बाद में आपकी कविता सामने आ गई।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया..बात कही आपने....

    सुंदर....

    ReplyDelete
  10. bahut achhi rachna .
    dil to fir bhi rkhne ka dava krte hai hai log par us dil me kisi ke liye dard nahi hota .

    ReplyDelete
  11. अब द‍िल की बातों को सुनना छोड़ द‍िया
    परमजीत द‍िल अब सबके पास नहीं होता
    ..वाह।

    ReplyDelete
  12. एक प्रभावशाली गजल जिसके सभी शेर सारगर्भित हैं खासतौर पर ... जिन्हे सदा देखकर .... तथा ....दिल सबके पास अब ... दिल को छूने वाले हैं, यह गजल लगभग सभी को प्रभावित करेगी !!!!!!

    ReplyDelete
  13. छोटीसी पर बहुत उम्दा गज़ल । गागर में सागर वाली बात ।

    ReplyDelete
  14. जिन्हें सदा देख कर मुस्कुराते थे हम
    उनकी तस्वीर है ये यकीं अब नहीं होता ......

    बल्ले बल्ले ....बाली जी ऐसा क्या हो गया तस्वीर में .....???

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब .जाने क्या क्या कह डाला इन चंद पंक्तियों में

    Sanjay kumar
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।