Monday, February 22, 2010

दो क्षणिकाएं

पता नही-

किस की नजर लग गई है...
अब मेरा बटुआ पहले जैसा
नजर नही आता।
जेब मे होते हुए भी
जेब में है...
लेकिन...

मै जान नही पाता।
*****************************
इस मंदी से मार....
हम और तुमको खानी है।
नेता तो इस मंदी से भी
फायदा उठाएंगे।

वे जानते हैं ...
मतदाता कितना अकलमंद है-
भेड़ चाल चलता है..
सौ के नोट और... 
एक बोतल पर पलता है।
इस लिए वे हमे देख...
हाथ हिलाएगे और मुस्कराएगें।
वे जानते हैं 
ऐसे ही मतदाता 
कुर्सी पर बिठाएगें।
***********************

30 comments:

  1. मनमोहन की नज़र लगी बटुये को

    ReplyDelete
  2. सटीक और धारदार क्षणिकाएँ. बधाई.

    ReplyDelete
  3. हमने तो बटुआ रखना ही छोड़ दिया है।

    अच्छी रचनाएँ।

    ReplyDelete
  4. अब तो प्लास्टिक के नोट आयेंगे। बटुये का आकार प्रकार भी बदलेगा। शायद तब मंहगाई भी कम हो! :-)

    ReplyDelete
  5. "मज़ेदार......"
    प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. बहुत गंभीर बात कह दी हंसी हंसी में, एक बहुत अच्छा कटाक्ष .बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  7. सच है नेताओं को मतदाता की नब्ज़ पता है ....
    अच्छी हैं दोनो छनिकाएँ

    ReplyDelete
  8. दोनों ही क्षणिकाएं बेहद अच्छी लगीं

    ReplyDelete
  9. अत्यंत चुटीली और असरकारक क्षणिकाएँ
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  10. अजी, हमने तो आज तक बटुआ खरीदा तक नहीं.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ.....आभार!!

    ReplyDelete
  12. अरे बाबा नजर नही लगी!! सेंध लगा ली है इस मन मोहनी सरकार ने, बस भुख से मर कर गरीब ही नही रहेगा, तो गरीबी तो अपने आप हट जायेगी ना.....फ़िर भारत दुनिया का सब से अमीर देश होगा...:)

    ReplyDelete
  13. सच्चाई बताती हुई दोनों क्षणिकाएं....बहुत खूब

    ReplyDelete
  14. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब बाली साहब , सबके बटुए तो मनमोहन जी ने अपने गुल्लक में घुसेड ली हैं ..मिलेगा क्या
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  16. क्षणिकाएं बहुत अच्छी लगीं....



    आभार...

    ReplyDelete
  17. आपकी तलाश अवश्य पूरी होगी दिशा सूचन हेतु शब्दों की ताकत आपके पास
    बाकि लिखने में आपका जवाब नहीं |

    ReplyDelete
  18. आपको व आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  19. अच्छे कटाक्ष हैं ...पर आजकल शालीन कटाक्ष का कोई असर नहीं होता ..गाली सुनकर भी मेंढक की तरह हंसते हैं लोग!
    ..होली की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  20. जरुरी कटाक्ष है.
    ---
    आपको होली की रंगीली बधाई.

    ReplyDelete
  21. जेब में है
    लेकिन मैं
    जान नहीं पता !

    बटुए के बिम्ब में महंगाई का अच्छा चित्रण है!
    होली की शुभ कामनाएं!

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।