Sunday, May 2, 2010

उदासी का राज.....



उदास मन,उदास मेरा, दिन और रात है।
वजह नजर आती नही,  ये कैसी बात है।

या रब खफा है तू ,या खुद से खफा हूँ मै,

समझ नही आता मिली, कैसी, सौगात हैं।


पूछूँ किसे जाकर बताएगा यहाँ  अब कौन,
हर दिल का लगे ऐसा ही, मुझको हाल है।


मन की आँख जैसे, मुझे दुनिया दिखे वैसे,
परमजीत तेरी उदासी का  बस!यही राज है।

19 comments:

  1. बहुत सुन्दर. बधाई और स्वागत

    ReplyDelete
  2. "बहुत बढ़िया लिखा गया है..."

    ReplyDelete
  3. bahut sundar prastuti...........har dil kaa haal bayan kar diya.

    ReplyDelete
  4. ग़ज़ल रुपी यह पोस्ट बहुत अच्छी लगी.... अंतिम दो लाइनों ने दिल को छू लिया....

    ReplyDelete
  5. udaasi hi naye yug kee saugaat hai
    jidhar dekho , udaasi kee hi afratafree machi hai...
    bahut hi achhi gazal

    ReplyDelete
  6. meri bhawna meri beti ke naam se post ho gai hai, khushi meri beti

    ReplyDelete
  7. Udaasee ko bhee aapane bahuta hee sahajataa ke saatha shabdon men bandha hai---sundar rachanaa.
    Puunam

    ReplyDelete
  8. मान के बातें जैसी देखें आखें वैसी...सच कहा...

    बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  9. ये अँधेरे उजालों की बात है ,
    न दिन है न रात है...
    प्यार की सौगात है
    किस्मत की अपनी जात है ...

    ReplyDelete
  10. बहुत अही लिखा आप न्रे.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. सारी उदासी का राज़ अंतिम शे’र में छिपा है।

    ReplyDelete
  12. वाह, क्या बात है "जाकी रही भावना जैसी प्रभु मूरत देखीं तीन तैसीं "

    ReplyDelete
  13. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए और टिपण्णी देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने शानदार रचना लिखा है जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर रचना है.
    मन की आँख जैसे, मुझे दुनिया दिखे वैसे
    परमजीत तेरी उदासी का बस! यही राज़ है.
    यह पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगीं. बधाई.
    महावीर शर्मा

    ReplyDelete
  15. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।