Monday, May 31, 2010

बहुत सताया गर्मी ने......

                                             (चित्र गुगुल से साभार)
रिम-झिम रिम-झिम बरसा बादल,
बहुत सताया सूरज ने...
सब के तन मन आग लगी है,
बहुत सताया गर्मी ने....

ऊपर वाले अब तो सुन ले,

तू अब तक क्यों सोया है।
महँगाई की मारे खा के,
निर्धन अक्सर रोया है।
तू भी क्यों उस को है रूलाता,
पेश आ उस से नर्मी से।
रिम-झिम रिम-झिम बरसा बादल,
बहुत सताया सूरज ने...
सब के तन मन आग लगी है,
बहुत सताया गर्मी ने ।


गर्मी के कारण यह बंदा,
सूझबूझ सब खो बैठा है।
मत दे अब यह भुगत रहा है
बीज ही ऐसा बो बैठा है।
छोटे छोटे स्वार्थ के कारण,
देश का हित यह खो बैठा है।
वादों पर वादा कर कर नेता,
हसँता है बेशर्मी से।
रिम-झिम रिम-झिम बरसा बादल,
बहुत सताया सूरज ने...
सब के तन मन आग लगी है,
बहुत सताया गर्मी ने....।

साठ बरस मे पीने का पानी,
देश को ना यहाँ मिल पाया।
मिल बाँट कर नेताओ ने,
बहुत लूट कर है खाया।
अब तो होश मे आओ जनता,
सो ना सकोगे गर्मी में।
रिम-झिम रिम-झिम बरसा बादल,
बहुत सताया सूरज ने...
सब के तन मन आग लगी है,
बहुत सताया गर्मी ने....।

इस गर्मी ने मुझ से देखो..
क्या क्या है यहाँ बुलवाया।
ऊपरवाले से बस कहना था..
बरसा बादल, दे छाया।
तन मन के सब ताप हरे जो,
दे निजात इस गर्मी से।
रिम-झिम रिम-झिम बरसा बादल,
बहुत सताया सूरज ने...
सब के तन मन आग लगी है,
बहुत सताया गर्मी ने....

26 comments:

  1. अच्छी भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  2. ...बहुत सुन्दर, प्रसंशनीय !!!

    ReplyDelete
  3. हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  4. मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है
    क्या गरीब अब अपनी बेटी की शादी कर पायेगा ....!
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/2010/05/blog-post_6458.html
    आप अपनी अनमोल प्रतिक्रियाओं से  प्रोत्‍साहित कर हौसला बढाईयेगा

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब इस गर्मी ने तो हद कर दी है और इसका असर आपकी कविता में झलक रहा है

    ReplyDelete
  6. गर्मी में फुहारों के चित्र मात्र से मन हर्षित हो गया...काश ये तपन जल्दी मिटे

    ReplyDelete
  7. इस तस्वीर का हकीकत में बदलने का इंतज़ार है बेसब्री से ।

    ReplyDelete
  8. वत्स
    सफ़ल ब्लागर है।
    आशीर्वाद
    आचार्य जी

    ReplyDelete
  9. गर्मी का अहसास कराती बढिया रचना है बाली जी....
    आभार्!

    ReplyDelete
  10. गर्मी पर लिखी रचना जहाँ सूरज से डराती है वहीँ बारिश मन को आनन्द से भिगो देती है चित्र में..

    ReplyDelete
  11. वाकई, इस बार गरमी ने लोगों को बहुत सताया.

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया रचना..

    ReplyDelete
  13. लगता है दिल्ली वालों की तो उपर वाले ने सुन ली है ... बारिश का अंदेशा है ...
    अच्छी रचना है बहुत ... गर्मी में थोड़ी राहत देती है ...

    ReplyDelete
  14. दूसरा वाला छंद बहुत लाजबाब है ! सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  15. क्या सुन्दर लिखा है! गर्मी और महंगाई को मिलकर. बड़ी अच्छी कविता बन गई है. बहुत बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  16. मुझे गर्मी का मौसम बहुत अच्छा लगता है। बचपन में इस मौसम के आते ही मैं खुश हो जाया करता था।
    छुट्टी जो मिलती थी भाई।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर रचना है ,,,पहली बार ब्लॉग पर आया बहुत प्रसन्नता हुई ,,,बहुत अच्छा लिखते हो बधाई

    ReplyDelete
  18. सच कहा आपने इस गर्मी ने बहुत सताया । अच्छी रचना । आभार

    ReplyDelete
  19. गर्मी का अति उत्तम वर्णन....

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।