Monday, July 9, 2012

क्या करें........




इक दिन आना है उसे क्या इंतजार करें।
बेरंग जिन्दगी में ,   चलो कोई रंग भरें।
वैसे भी हमे मंजिल का कोई पता नही,
बस! चलो,चलना है , रुक के क्या करें।

ठहर पाया है कौन , इक पल   भी यहाँ।
साँसो की डोरी,वक्त, रूकता है कब कहाँ।
जब कुछ नही है हाथ तेरे कोई क्या करे-
बस! इंतजार करता रहता है ये  जहां।

11 comments:

  1. भावमय करती पंक्तियां ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  2. वाह..........
    बहुत सुन्दर.......

    अनु

    ReplyDelete
  3. जो भी मिला, उसे सँवारें हम सब आकर..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भाव ..आभार..

    ReplyDelete
  5. एक दिन तो सबको जाना है,,,

    RECENT POST...: दोहे,,,,

    ReplyDelete
  6. जीवन मे जो जी लिया वो आज है और जो नही जीया वो कल है बस
    यूनिक तकनीकी ब्लाrग

    ReplyDelete
  7. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १०/७/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी आप सादर आमंत्रित हैं |

    ReplyDelete
  8. सच है जो होना है वो होगा तो जितना हो सके जीवन में रंग भरने का प्रयास होते रहना चाहिए ... बहुत उम्दा आशावादी बोल ...

    ReplyDelete
  9. जिंदगी रंगीन हो जायेगी
    तुम जरा बुरुश उठाओ तो ।

    बहुत सुंदर कविता परमजीत जी ।

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।