Sunday, December 2, 2012

मन के घोड़े



ये मन के घोड़े भी आखिर कब तक दोड़ते रहेगें।एक ना एक दिन थक कर रुक  जायेगें। मगर सोचता हूँ इन के थक कर रूकने से पहले अपने असली घर पहुँच जाऊँ।ऐसी ख्वाहिश सिर्फ मेरी ही नही.शायद सभी की होती होगी। लेकिन क्या यह पूरी भी होती है?मन इस प्रश्न पर हमेशा मौन हो जाता है। जैसे वह इस प्रश्न का उत्तर हमीं से चाहता हो।लेकिन हम भी बहुत अजीब हैं ....कभी इस प्रश्न को गंभीरता से नही लेते। ऐसा लगता है कि अभी इस विषय पर इस प्रश्न पर विचार करने का समय नही आया है और हमारी जिन्दगी यूँही बीत जाती है।जब मन के घोडे़ एक ही जगह खड़े रह कर मात्र सिर हिलाते रहते हैं और हिनहिनाते रहते है उस समय तक बहुत देर हो चुकी होती है जिन्दगी के मायने ही बदल जाते है।


3 comments:

  1. इन्हे काबू कर लिया तो सब काबू हो गया

    ReplyDelete

  2. इन घोड़ों को काबू में लाना आसान नहीं....
    विचारणीय.....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. कभी बैठना हमें अकेले में भाता है

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।