Monday, April 22, 2013

यादों के लिए दिल बहुत छोटा है.....



यादो के लिए ये दिल  बहुत छोटा है।
जब यादें सताती हैं ये बहुत रोता है।

सोचता था किसी दिन  सब भूल जाऊँगा
 मालूम नही है मुझे , ये कैसे होता है।

कह्ते हैं शराब ग़म भुलानें का जरिया है
जब भी पी,ज्यादा तड़पता हुआ ये  लौटा है।
 
लाख ख्वाईशें करो जन्नत की बहारों की   
भी का एक-सा नसीब नही होता है।

मानें की कही हर बात सच नही होती
वही मिलता है, आदमी जैसा बोता है।




12 comments:

  1. वाह....
    बहुत बढ़िया ग़ज़ल......

    अनु

    ReplyDelete
  2. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।
    4 बरस में पहली बार आपके साक्षात दर्शन हुए हैं। अन्यथा हम तो आपका बाल रुप ही देखते आए हैं :)

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढ़िया ....
    जन्मदिन की बधाई और शुभकामनाएं मेरी भी ....
    "4 बरस में पहली बार आपके साक्षात दर्शन हुए हैं। अन्यथा हम तो आपका बाल रुप ही देखते आए हैं :)"सही है ...
    साधना ब्लॉग के लिए मैं आपकी आभारी हूं ....

    ReplyDelete
  4. ललित शर्मा जी ने तो हम सब के दिल की बात कह दी है ... ;)


    जन्मदिन की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  5. सबको अपनी अपनी मिलती...जीवन और उसकी राहें।

    ReplyDelete
  6. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 01/05/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना मन को छूती हुई
    बधाई
    उत्कृष्ट प्रस्तुति


    विचार कीं अपेक्षा
    आग्रह है मेरे ब्लॉग का अनुसरण करें
    jyoti-khare.blogspot.in
    कहाँ खड़ा है आज का मजदूर------?

    ReplyDelete
  8. Hathon Mein Khali Gilas Liye Baitha Hun,
    Log Kehte Hain Piye Baitha Hun,
    Ho Gaya Hun Zinda Lash Tere Jane Ke Baad,
    Dard Sine Main Lekar Hothon Ko Siye Baitha Hun

    Gumnam

    ReplyDelete
  9. Mai Shayar Houn Per Sharabi Nahi,
    Koi Sharaab Aise Mile Ke Tujhe Bhool Jaun To Pee Jaunga

    Gumnam

    ReplyDelete
  10. Zindagi Bewafa Kion Hoti Hai?
    Wafa Kernay Ki Saza Kion Hoti Hai?

    Choti Si Baat Pe Baha Dety Hain Khoon
    Insan Mein Itni Ana Kion Hoti Hai?

    Karta Hun Mein Jis Se Bar Baar Tauba,
    Elahi Mujhse Wohi Khata Kion Hoti Hai,

    Banatay To Hain Hum Apne Haton Se Masjid,
    Namaz Apni Hi Phir Qaza Kion Hoti Hai..

    Gumnam

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।