Thursday, August 30, 2007

मुक्तक-माला-७

(आगरा की आग)


१.


अपनी लगाई आग में, जल रहे हैं लोग ।

आग का तो काम है जलना जलाना रोज ।

दूजे की भूल देख, अपनी इन्सानियत छोड़ी,

ना मालूम कहाँ खॊ गए हैं, आदमी के होश ।


२.


भीतर की आग, बाहर भी वही काम करेगी ।

आस-पास सब जगह, जहाँ पाँव धरेगी ।

पहले जरा उसका, इस्तमाल समझ ले इन्सां,

फिर आग यही, हरिक शै रोशन करेगी ।


३.
जलता है कोई शख्स अगर, यह आँख रोती है।

हर इक नयी कब्र में,नयी आग बोती है ।

सब जानते हैं कौन मुजरिम इस खता का है,

ना जाने फिर भी क्यूँ, इन्सानियत सोती है।

11 comments:

  1. बहुत ही अच्छे मुक्त्क लिखे हैं।इस मुक्त्क मे बहुत अच्छा संदेस है-

    भीतर की आग, बाहर भी वही काम करेगी ।
    आस-पास सब जगह, जहाँ पाँव धरेगी ।
    पहले जरा उसका, इस्तमाल समझ ले इन्सां,
    फिर आग यही, हरिक शै रोशन करेगी ।

    -तरनजीत-

    ReplyDelete
  2. आज कल के हालात पर बहुत अच्छे मुक्तक हैं।बहुत सही कहा है-

    .जलता है कोई शख्स अगर, यह आँख रोती है।
    हर इक नयी कब्र में,नयी आग बोती है ।
    सब जानते हैं कौन मुजरिम इस खता का है,
    ना जाने फिर भी क्यूँ, इन्सानियत सोती है।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छा लिखा है बाली जी. और बहुत सामयिक भी. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  4. सही कहा. मन का द्वेष ही हमारे आस पास की हिंसा का कारण है.
    आपके शब्दों में--

    "भीतर की आग, बाहर भी वही काम करेगी ।आस-पास सब जगह, जहाँ पाँव धरेगी "

    ReplyDelete
  5. सब जानते हैं कौन मुजरिम इस खता का है,

    ना मालूम कहाँ खॊ गए हैं, आदमी के होश ।


    बेबाक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. मुझे आप के मुक्तक बहुत अच्छे लगे।

    भीतर की आग, बाहर भी वही काम करेगी ।
    आस-पास सब जगह, जहाँ पाँव धरेगी ।
    पहले जरा उसका, इस्तमाल समझ ले इन्सां,
    फिर आग यही, हरिक शै रोशन करेगी ।

    ReplyDelete
  7. बहुत बढिया मर्मस्पर्शी
    दीपक भारतदीप

    ReplyDelete
  8. वाह परमजीत भाई. सही मुक्तक-सामायिक. बहुत खूब!! लिखते रहें.

    ReplyDelete
  9. बहुत बढिया मुकत्क हैं।

    ReplyDelete
  10. लहर नई है अब सागर में
    रोमांच नया हर एक पहर में
    पहुँचाएंगे घर घर में
    दुनिया के हर गली शहर में
    देना है हिन्दी को नई पहचान
    जो भी पढ़े यही कहे
    भारत देश महान भारत देश महान ।
    NishikantWorld

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।