Wednesday, April 22, 2009

किसके लिए......


कुछ कहो, जो कहना है, दिल की बात को,
छुपा के किस लिए यहा, आँसू बहाते हो।

देख तेरे आँसुओ को,ना दिल पसीजेगा,
हाल सबका एक-सा है, किसको सुनाते हो।

जिसको सुनाओगे दास्ता,सुनके हँस देगा,
उन को उनकी कहानी ,जैसे सुनाते हो।

कौन है खुश दूसरे से,खुद से भी, कहाँ,
परमजीत किसके लिए गीत गाते हो।

25 comments:

  1. बात सही है, फिर भी कुछ कहे, कुछ गुनगुनाए बिन रहा भी तो न जाए।

    अच्‍छी रचना।

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब बाली जी। ईमानदारी से कह दी अपनी बात।

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब।

    दास्तां अजब है मिल के भी मिल न पाना।
    मेरा दिल जलाने क्यों बार बार आते हो।।


    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  4. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  5. वास्तव में सब का हाल एक जैसा ही है...!इस सदर्भ में एक गीत याद आता है-कौन सुनेगा ,किसको सुनाएँ, इसलिए चुप रहते है....

    ReplyDelete
  6. vaise to insan akela hi hai,magar bhi aaspaas rishtey bahut hai,gungunate hum khud ke liye aur sunte wahi hai.bahut hi sunder rachana,shayad kuch sawalon ke jawab sangeet mein chuppe ho.

    ReplyDelete
  7. waah ji waah ....wese to saare hi she'r mukammal kahi aapne magar aakhiri se dusare she'r ne dil jeet liya ... bahot hi behtarin kahi aapne dhero badhaayee aapko sahib..

    meri naee gazal pe aapko newta diye jaa rahaa hun..

    arsh

    ReplyDelete
  8. बालीजी आपको पढ़कर एक अजीब सा सकुन सा मिलता है. आपकी सरल भाषा ,शब्दों में छिपे गहरे भाव, मन में एक अमिट छाप छोड़ते है. आप इस तरह से लिखते रहे और हम आपके भावो को पढ़ते रहे ........ये सिलसिला बस एसे ही चलता रहे .......

    आभार .......

    राजीव महेश्वरी

    ReplyDelete
  9. kya khoob likhte hain ..........yatharth bodh kara diya.

    ReplyDelete
  10. शब्दों का बहुत अच्छा प्रयोग किया है आपने.. आभार

    ReplyDelete
  11. जज्बातों का सुन्दर शब्द-चित्र.....

    ReplyDelete
  12. संवेदना गहरी है ,अभिव्यक्ति सुन्दर ,बधाई।

    ReplyDelete
  13. कौन है खुश खुद से यहाँ ...सही बहुत अच्छी लगी यह पंक्तियाँ .सुन्दर

    ReplyDelete
  14. ऐसी कठोर दुनिया में तो गाने का कोई मतलब नहीं।

    ReplyDelete
  15. सही कहा आपने परमजीत जी .......सीधे, सरल शब्दों में प्रभावी बात .............

    ReplyDelete
  16. Adarneeya balee jee,
    achchhee gazal hai....kam shabddon men gahree abhivyakti.
    HemantKumar

    ReplyDelete
  17. बाली साहब, आप तो गीत और गजल भी बहुत अच्छी कहते है. देश का दुर्भाग्य है कि गुजरात तो हर किसी को याद आता है लेकिन चौरासी किसी को नहीं जिसमें बेकसूर सिखों को जला-जलाकर मारा गया था और आज तक किसी को सजा नहीं हुई.गुजरात में मामला बिलकुल उलट था और चौरासी का उससे एकदम उलटा. लेकिन हाय रे वोटर, कातिलों को नाखुदा बना दिया.

    ReplyDelete
  18. Paramjeet kiske liye geet gate ho.....

    kabhi kabhi apne liye bhi to geet gungunaya jata hai....bahut achcha likha hai aapne....badhai swikariyega

    ReplyDelete
  19. baali saheb ,

    bahut sundar panktiyaan .. man ko choo gayi .. dusara sher ,behatreen hai , dil se badhai ..

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. अपने उदगारों को अपने गीतों में कह देना।
    मन की मूक वेदनाओं को धीरे से सह लेना।

    ReplyDelete
  21. नमस्कार,
    इसे आप हमारी टिप्पणी समझें या फिर स्वार्थ। यह एक रचनात्मक ब्लाग शब्दकार के लिए किया जा रहा प्रचार है। इस बहाने आपकी लेखन क्षमता से भी परिचित हो सके। हम आपसे आशा करते हैं कि आप इस बात को अन्यथा नहीं लेंगे कि हमने आपकी पोस्ट पर किसी तरह की टिप्पणी नहीं की।
    आपसे अनुरोध है कि आप एक बार रचनात्मक ब्लाग शब्दकार को देखे। यदि आपको ऐसा लगे कि इस ब्लाग में अपनी रचनायें प्रकाशित कर सहयोग प्रदान करना चाहिए तो आप अवश्य ही रचनायें प्रेषित करें। आपके ऐसा करने से हमें असीम प्रसन्नता होगी तथा जो कदम अकेले उठाया है उसे आप सब लोगों का सहयोग मिलने से बल मिलेगा साथ ही हमें भी प्रोत्साहन प्राप्त होगा। रचनायें आप shabdkar@gmail.com पर भेजिएगा।
    सहयोग करने के लिए अग्रिम आभार।
    कुमारेन्द्र सिंह सेंगर
    शब्दकार
    रायटोक्रेट कुमारेन्द्र

    ReplyDelete
  22. achchhi kavita hai.kuch pantiyan to behad prabhavshali ban padi hai.

    ReplyDelete
  23. कुछ कहो , जो कहना है , दिल की बात को
    छुपा के किस लिए यहाँ आंसू बहाते हो ....

    वाह ...जी ...वाह......आपने तो टका सा जवाब दे दिया उसे.....!!

    देख तेरे आंसुओं को न दिल पसीजेगा......

    क्या बात है बाली जी ...कुछ खफा- खफा से हैं जनाब.....!!

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।