Sunday, June 26, 2011

तारीख...



कुछ तारीखे 
पहचान बन जाती है।
जो बहुत प्यारे होते हैं
जिन्हें हम असमय खोते हैं।
उन के जाने का समय
ना जाने क्यो ....
भूल नही पाता ये मन।
अपने भीतर बहुत खोजा
बस! जानना चाहता हूँ-
यह क्यूँकर होता है।
जब भी वह दिन आता है-
मन भीतर ही भीतर रोता है।
जानता हूँ.....
एक दिन सभी को जाना है।
सभी को विदाई का गीत गाना है।
फिर भी मन इस से बचना चाहता है-
यह दिन किसी को नही भाता है।
लेकिन सभी के जीवन में
यह दिन जरूर आता है।
जो आँखें भिगों जाता है।


ऐ मेरे मन! तू सच को स्वीकार ले।
नियम किसीसी के लिये नही बदलते विधान के,
क्यूँ अनजान बन कर दुखी होता है
अकेला बैठ क्यूँ रोता है?
लेकिन मैं जानता हूँ-
ये मन मेरी नही सुनेगा...
सब कुछ जान कर भी आँसू बहायेगा।
जब भी वह दिन आयेगा।
मुझे फिर बहुत सतायेगा।
फिर कोई दुख भरा गीत गायेगा।
सभी को यादें ऐसे ही सताती हैं-
कुछ तारीखे 
पहचान बन जाती हैं।

6 comments:

  1. pyari kavitaa hai. achchhe bhav hai. badhai....

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्छी कविता है, जग में बस एक स्मृति ही रह जानी है।

    ReplyDelete
  3. एक दिन सभी को जाना है,
    सभी को विदाई का गीत गाना है।
    बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. बिल्‍कुल सही कहा है ...

    कुछ तारीखे
    पहचान बन जाती हैं ... ।

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह भावमय खुद से लडती सी रचना
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।