Saturday, August 4, 2012

मुक्तक



रात है सुनसान दीपक हवा से लड़ रहा।
कौन जीतेगा यहाँ दूर से कोई तक रहा।
तेरी मर्जी हो तो यह सुबह देखेगा जरूर-
आस में बैठा हुआ कोई बाट तेरी तक रहा।

13 comments:

  1. आशा का दीप जलते रहना चाहिये। बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  2. वाह...
    बहुत सुन्दर मुक्तक...
    लाजवाब!!!

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. जाजवाब..्सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  4. आशा ही है जो जीवंत बनाए रखती है ... सुंदर मुक्तक

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर मुक्तक.

    बधाई बाली जी.

    ReplyDelete
  6. आशा का दीपक जलता रहे ।
    सुंदर मुक्तक, संकट में राह दिखाता सा ।

    ReplyDelete
  7. दिया तले अधेरा पर सभी को प्रकास देने की कवायद उत्‍तम प्रस्‍तुति

    यूनिक तकनीकी ब्लाग

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।