Wednesday, August 15, 2012

ये कैसा वतन ये कैसी आजादी......


 



ये कैसा वतन 
ये कैसी आजादी ।
मरती है भूखी ...
जनता बेचारी ।
किसे फिक्र है 
अपने सिवा यहाँ,
क्या देखी कभी है, 
ऐसी लाचारी ।

हरिक शख्स 
परेशां-सा 
यहाँ जी रहा है।
महँगाई, भ्रष्टाचार 
अन्याय पी रहा है।
जो कुर्सी पर बैठा
 है वतन का सिपाही,
मेरे इस वतन का 
कफन-सी रहा है।

जनता को फुर्सत 
कहाँ है  दोड़नें से 
तुम पीछे रहे तो 
ये गल्ती तुम्हारी।
छल से, बल से ,
बस आगे है रहना
वतन को ना जानें, 
कैसे लगी ये बीमारी ।

ये कैसा वतन 
ये कैसी आजादी ।
मरती है भूखी ...
जनता बेचारी ।

10 comments:

  1. बहुत खूबसूरत रचना………………स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  2. वे क़त्ल होकर कर गये देश को आजाद,
    अब कर्म आपका अपने देश को बचाइए!

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,,
    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    ReplyDelete
  3. ऐसी आजादी खले, बाली जी के बोल |
    उथल पुथल दिल में मचे, बड़ा चुकाया मोल |
    बड़ा चुकाया मोल, रोल इन शैतानों का |
    तानों से दे मार, गजब शै हुक्मरानों का |
    राशन पानी स्वास्थ्य, बही शिक्षा सड़कों पर |
    अंधकार अति गहन, करे क्या रोशन रविकर ||

    ReplyDelete
  4. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 18/08/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. कैसा वतन कैसी आज़ादी ....??

    बिलकुल सही सवाल .......

    ReplyDelete
  6. यह कैसा वतन और कैसी आजादी । सही कहा बाली जी आपने ।

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।