Monday, July 23, 2007

आत्म-मंथन



अपने घर की दीवारो के
धब्बें तो पहले मिट जाएं
फिर बाहर की दीवारों को
धोनें का प्रयास करूँगा।

मेरे भीतर की काइ में
बहुत रेंगते कीट-पतंगें
सूखे वृक्ष, झाड़, कटीले,
जंगल के सब जीव भरे हैं
सीलन बदबू भरी पड़ी जो
उसको पहले साफ करूँगा।

अपने घर की दीवारो के
धब्बें तो पहले मिट जाएं
फिर बाहर की दीवारों को
धोनें का प्रयास करूँगा।

होनें, ना होनें से मेरे,
उनको फरक कहाँ पड़ता है।
गीत गाँऊ तभी संग उनका
मुझको तो अक्सर मिलता है।
लेकिन फिर टूटे पंखों संग
उड़ने का प्रयास करूँगा।

अपने घर की दीवारो के
धब्बें तो पहले मिट जाएं
फिर बाहर की दीवारों को
धोनें का प्रयास करूँगा।

समता को भी अर्थहीन कर
केवल चलनें की अभिलाषा
सब से आगे माँग रहे जो
क्या ये संग, मुझको भाता है।
फिर भी उनका साथ चाहिए,
बिन दुल्हन के रास करूँगा।

अपने घर की दीवारो के
धब्बें तो पहले मिट जाएं
फिर बाहर की दीवारों को
धोनें का प्रयास करूँगा।

भीतर के कोलाहल का भय़
सबके भीतर ही बैठा है।
लेकिन स्वीकारे कोई कैसे
मन तो सबका ही ऐठा है।
अपनी ऐंठन को कूट-काट कर
फूलो-सा आभास धरूँगा।

अपने घर की दीवारो के
धब्बें तो पहले मिट जाएं
फिर बाहर की दीवारों को
धोनें का प्रयास करूँगा।

5 comments:

  1. परमजीत जी,बहुत अच्छी कविता लिखी है।आज का सब से मुश्किल काम यही है कि आदमी अपने अन्दर नही झाँकना चाहता।वह हमेशा बाहर की फिक्र मे अपने को व्यस्त रख कर, सच्चाई से मुँह मोड़े रहता है।जिस तरह कबूतर आँखे बन्द कर के समझता है कि बिल्ली उसे नही देख रही,लेकिन उस की यही मूर्खता उस का अन्त का कारण बन जाती है।आप ने सही कहा है-
    भीतर के कोलाहल का भय़
    सबके भीतर ही बैठा है।
    लेकिन स्वीकारे कोई कैसे
    मन तो सबका ही ऐठा है।
    अपनी ऐंठन को कूट-काट कर
    फूलो-सा आभास धरूँगा।

    ReplyDelete
  2. बाली जी सहीं कहा आपने, हमें अपने अंदर भी झांकना होगा, बहुत ही सुन्‍दर कविता ।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर हृदय स्पर्शी कविता है, बधाई.

    ReplyDelete
  4. परमजीत जीं,
    मेरे मन की बात आप भी कर रहे हैं ।
    दीपक भारतदीप

    ReplyDelete
  5. अच्छी कविता लिखी है। आजकल लोग अपने गिरेबां में कहां झांकते हैं?

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।