Sunday, July 15, 2007

नया सवेरा

अनायास होता है

सब कुछ
हम तकते रह जाते हैं।


कोई अन्धेरा

कहीं से निकल
हम पर लिपट जाता है।

स्वयं से जन्मा ये अन्धकार
अब स्वयं को ही डराता है।

मेरे मन
तुम अब अन्धेरे की बात

मत करना।
ये शनै-शनै मिट जाएगा।
क्यूँकि कोई रात
कितनी भी काली या भयानक हो
रात के बाद
नया सवेरा आएगा ।

4 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. सही कहा आपने । आशा है तो जीवन रसमय है....

    ReplyDelete
  3. paramjeetjee
    aaj aapke rachnaaen dekhkar bahut khushee huee. jaree rakhiye.
    Deepak Bharatdeep

    ReplyDelete
  4. सही है एक आशावादी रचना. बधाई.

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।