Saturday, February 14, 2009

मुक्तक माला - १५



किसी के रोकनें से कौन रूकता है?
बिना हारे यहाँ पर कौन झुकता है?
चलन यह आज का नही, बरसों पुराना है,
सदा दुनिया में यारों कौन रूकता है?


*******************************

चलने वालों को कब कोई रोक पाया है
बस इतना याद रखो किसने सताया है।
यही चुभन जगाए रखेगी, काली रातों में,
विजय का गीत, सभी ने ऐसे गाया है।


**********************************

हम चुप थे तो यह ना समझ की प्यार नहीं ।
कुछ पूछा नही,यह ना समझ इन्तजार नही ।
तेरी आहटों के सहारे ए- दोस्त जिन्दा थे,
माना अपनी जु़बा से कर सके इजहार नहीं।


*************************************

14 comments:

  1. तीनों मुक्तक बेहतरीन. आखिर वाला तो कल अपने यहाँ टिप्पणी में पढ़कर ही वाह करवा गया था. :)

    ReplyDelete
  2. तीनो मुक्तकों के लिए एक ही शब्द लाजबाब .

    ReplyDelete
  3. waah saare muktak bahut badhiya,khas kar 3rd.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ! अद्भुत !
    "हम चुप थे तो यह ना समझ की प्यार नहीं ।
    कुछ पूछा नही,यह ना समझ इन्तजार नही ।
    तेरी आहटों के सहारे ए- दोस्त जिन्दा थे,
    माना अपनी जु़बा से कर सके इजहार नहीं।"

    ReplyDelete
  5. एकदम सही बात है की बिना हारे यहाँ कोई नहीं झुकता !
    और दिखे या न दिखे लेकिन हारते तो सब कहीं न कहीं हैं |

    ReplyDelete
  6. ati uttam......... sahi hai har baar izhar nhi ho pata magar jazbaat to hote hain na.
    bahut khoob.

    ReplyDelete
  7. बहुत ही बढिया......
    शुभकामनाओं के साथ

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर तीनो एक से बढ कर एक.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. तीनों ही मुक्तक बढ़िया हैं. साधुवाद.

    ReplyDelete
  10. muktak ki mukt kanth se prashnsa karta hu. achcha he, teeno behatar lage.

    ReplyDelete
  11. ... बहुत खूब, प्रसंशनीय अभिव्यक्ति है।

    ReplyDelete
  12. behatreen muktak , mazaa aa gaya ek ek muktak ko padhkar , apne aap men sampoorn kahani hai

    dil se badhai sweekar karen

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।