Friday, December 21, 2007

प्यार की भाषा

गरीब के आँसू,

कब किसी को दिखते हैं

मगर यह सच है,

यही मोती बिकते हैं।

कभी खबर बन कर

कभी बन कर तमाशा

बहुत अजीब है

इस दुनिया की

प्यार की भाषा।

3 comments:

  1. बाली जी
    हमेशा की तरह इस बार भी बेहद खूबसूरत रचना लगी आप की.कम शब्दों में बड़ी बात keh देना आप की खूबी है जिसका मैं कायल हूँ . बधाई.
    नीरज

    ReplyDelete
  2. परमजीत जी
    क्या बात है? आपके और हमारे विचार और भाव बहुत मिलते हैं.
    दीपक भारतदीप

    ReplyDelete
  3. sahi kaha,garib ke ansu kisi ko nahi dekhte,par,bikte jaroor hai,dusron ka pet9stomach) bharne ke liye.

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।