Tuesday, December 25, 2007

आज की राजनिति पर कुछ विचार:क्षणिकाएं

१.
जो आदम खोर
अपने को दूसरों से
ज्यादा दयालू बताएगा।
वही तो
भ्रम में पड़ी जनता से
"यह" सम्मान पाएगा।
२.
जीतना और सम्मान पाना,
दोनो अलग बात हैं।
जीतने वाला,
साम दाम दंड भेद से ,
जीत जाएगा।
यदि वह संत नही,
शैतान है तो,
शैतान ही कहलागा।

8 comments:

  1. आपकी समसामयिक क्षणिकाएँ अच्छी लगी , आपने तो चाँद पंक्तियों में राजनीति की नई परिभाषा हीं गढ़ दी है , बधाईयाँ !

    ReplyDelete
  2. आज के हालत पर बहुत ही सटीक लेखनी चली है आपकी .

    ReplyDelete
  3. rajniti se hum bahut door hi rehte hai,par apne to kuch hi panktiyon mein kya khub rajniti ki kshanikaye likhi hai wah,ghambhirta bhi hai aur thodi mishkili bhi.hum soch mein bhi pad gaye,aur muskura bhi rehe hai.maza aa gaya padhkar.

    ReplyDelete
  4. आपकी दूसरी कविता कुछ इअसे व्यक्ति पर व्यंग करती दिखती है, जिसे जबरन एक सामान्य आदमी से शैतान के रूप में प्रचारित किया गया।
    किसे?
    भाई यह भी बताना पडे़गा.. वही जो अपने आप को कॉमन मैन कहते हैं क्यों कि वे है भी।
    :)

    ReplyDelete
  5. आज की राजनीति पर अच्छा कटाक्ष किया हॆ.

    ReplyDelete
  6. इसका समय साध कर लायें है - ताकि सनद रहे - बहुत बढ़िया - इंसान और एक सवाल भी बहुत अच्छे लगे

    ReplyDelete
  7. भाई शैतानियत की परिभाषा बदल गयी है, अब लोग शैतान कहलाना फक्र की बात मानते हैं।

    ReplyDelete
  8. mar gye hum aam aadmi ki baat karte hai garibi to khatam nhn hoti gareeb ko khatam kar dena chahte hai

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।