Thursday, December 25, 2008

मुक्तक माला - १४

चलने वालो को कब कोई रोक पाया है।
बस इतना याद रखो किसने सताया है।
यही चुभन जगाए रखेगी, काली रातों में,
विजय का गीत, सभी ने ऐसे गाया है।

बहुत नाजुक है ये दिल, तोड़ना नहीं।
संग है कोई, उसे राह में छोड़ना नही।
बहुत तकलीफ होती है ऐसे हालातों में,
पकड़ा हुआ हाथ कभी तू छोड़ना नही।

मत समझ गैर जो सताते हैं तुझको यहाँ।
इन की फितरत है,फिर वो जाएगें कहाँ।
खुदा के रहमों करम पर दोनों जिन्दा हैं,
खुदा ने ऐसा ही बनाया है शायद ये जहां।

13 comments:

  1. बहुत ही भावुक कविता लिखी आप ने धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. बहुत ही भावुक कविता
    Regards

    ReplyDelete
  3. बाली भाई देरी के लिए मुआफी चाहता हूँ ... आखिरी मुक्तक तो जैसे कलेजे में उतर गया बहोत ही सुदर और बेहद खूबी से दर्द को उकेरा है आपने बहोत खूब ढेरो बधाई आपको

    अर्श

    ReplyDelete
  4. आपकी रचनाओं में एक ऐसा मर्म होता है
    जो आँखों और दिल तक जाता है.......
    मैं न चाहते हुए भी उदास हो जाती हूँ,
    और आपकी कलम से दोस्ती कर लेती हूँ

    ReplyDelete
  5. Bali ji,
    Apne muktakon men ap achchhee bhavnaon kee abhivyakti ke sath hee achchhe sandesh bhee dete chal rahe hain ...Badhai.
    Hemant Kumar

    ReplyDelete
  6. itni shaan dar rachan ke liye badhai ... thaki hui zindagi ko raah deti hui , aur nai saanso ki chahat deti hui rachana ..

    ye aapki ab tak ki shaandar rachana hai ...

    bahut si badhai ...

    aajkal aap mere blog par nazar nahi daalte .. appke comments ke liye meri kai nayi poems raah dekh rahi hai ..

    vijay
    pls visit my blog :
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।