Thursday, May 17, 2007

डेरा सच्चा सौदा.....बात तो सही है मगर....

मेरी बेटी और डेरा सच्चा सौदा चुनतंन जी का लेख अभी पढ कर हटा था कि मेरी भतीजी भी यही समस्या लेकर आ गई। वह अभी-अभी अपनी गेंद लेकर बाहर खेल रही थी कि उस की गेंद पड़ोस मे रहने वाले रिंकू ने ले ली ।उस ने बताया कि पहले तो रिंकू उस की गेंद लेकर उसी के साथ खेल रहा था लेकिन पता नही उसे अचानक क्या हुआ कि वह मेरी गेंद को अपनी बताने लगा है।
मैने कहा "कोई बात नही कुछ देर बाद हम उसे समझा देगें कि गेंद खेल कर वापिस कर देना।यह तुम्हारी नही है हमारी बिटिया की है। वह वापिस कर देगा।"
लेकिन भतीजी बोली-"मैनें भी यही समझा था कि वो गेंद वापिस कर देगा । लेकिन वह तो मेरी गेंद को अपनी बता कर कल सभी दोस्तो से कहेगा कि यह तो मेरी ही थी तो क्या होगा ? समय निकलने के बाद क्या मेरे दोस्त भ्रमित नही होगें ?" मेरे पास उस के सवाल का कोई जवाब नही है क्या आप बताएंगें इस का जवाब ?

6 comments:

  1. संजय बेंगाणीThursday, May 17, 2007 at 12:32:00 PM GMT+5:30

    बात तो यह भी सोचने वाली है...

    ReplyDelete
  2. गुरु नानक देव जी ने काह था,तेरा ही तेरा, ::तेरा तुज को सोपते कया लगेय मेरा:: हम गुरु को तो मानते हय, लेकिन गुरु का कहना नही मानते, गुरुदुबरे,मन्दिर,मस्जिद... तो जाते हे लेकिन मन से नही,तन से जाते हे, बस परमजीत जी इसी मे हे आप का जबाब

    ReplyDelete
  3. प्रतीकात्मक कहानी के द्वारा बात अच्छी तरह रखी है आपने.

    ReplyDelete
  4. यह भी अंदाज पसंद आया…!!!

    ReplyDelete
  5. भाई, आपकी बात समझ आती है । पर सब अपने लोग हैं । जिन्होंने अपने धर्म को समझा है वो जल्दी भ्रमित नहीं होते । बाकी लोगों को समझाने की जरूरत है तो वो शांतिपूर्ण तरीके से हो सकती है । जो आज हो रहा है वो निंदनीय है। ये हिंसा, उन महान धर्मगुरुओं के चित्त में शांति तो नहीं ही पहुँचाएगी ।

    ReplyDelete
  6. आज कल सच कहाँ है ....जिसे देखो दूसरे की चीज़ पर अधिकार करने की सोचता है

    ReplyDelete

आप द्वारा की गई टिप्पणीयां आप के ब्लोग पर पहुँचनें में मदद करती हैं और आप के द्वारा की गई टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है।अत: अपनी प्रतिक्रिया अवश्य टिप्पणी के रूप में दें।